नोटबंदी के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था हुई कमजोर


By: Admin on: Thursday,01 June 2017|10:39:45



नोटबंदी के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था हुई कमजोर


नोटबंदी के वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में देश की रफ्तार लगभग खत्म हो गई. एक झटके में देश से दुनिया की सबसे तेज चलने वाली अर्थव्यवस्था का टैग छिन गया. बता दे कि रफ्तार के मामले में चीन ने जनवरी-मार्च 2017 के दौरान 6.9 फीसदी की ग्रोथ देकर इस दौरान भारत की 6.1 फीसदी ग्रोथ को पछाड़ दिया है.
 
केन्द्र सरकार द्वारा जारी किये गए जीडीपी आंकड़ों के मुताबिक 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी के फैसले से उस वित्त वर्ष के आखिरी तिमाही (जनवरी-मार्च 2017) की विकास दर चौपट हो गई है. जहां सरकार को उम्मीद थी कि इस वित्त वर्ष में भी देश की जीडीपी 7 फीसदी से ऊपर की ग्रोथ दर्ज करने में सफल होगी, उसकी उम्मीद  पाको करारा झटका लग चुका है. भारत देश एक बार फिर मध्यम से सुस्त जीडीपी ग्रोथ वाले देशों कि सूची मे शुमार हो गया है.
 
बता दे कि चीन सरकार के जनवरी-मार्च 2017 के जीडीपी आंकड़े 6.9 फीसदी की ग्रोथ दिखा रहे हैं. यह भारत के लिए बड़ी चुनौती है क्योंकि इन आंकड़ों का साफ संकेत हैं कि चीन एक बार फिर तेज भागने वाली अर्थव्यवस्था के दौर में घुसने जा रही है. दोनों, चीन और भारत ने पिछले कुछ वर्षों से बड़े आर्थिक सुधारों को अंजाम दिया है जिससे दोनों की अर्थव्यवस्थाओं में बड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. जीडीपी आंकड़ों के मुताबिक नोटबंदी ने देश की आर्थिक रफ्तार को एक बार फिर दिसंबर 2014 की तिमाही के स्तर पर पहुंचा दिया है जब जीडीपी रफ्तार महज 6.0 फीसदी थी.
 





Name  

Email ID
Comments
 




ट्रेडिंग न्यूज़