1984 सिख विरोधी दंगा: SIT ने बंद किए थे 199 मामले, अब सुप्रीम कोर्ट करेगी जांच


By: Admin on: Saturday,02 September 2017|10:58:37



1984 सिख विरोधी दंगा: SIT ने बंद किए थे 199 मामले, अब सुप्रीम कोर्ट करेगी जांच


नई दिल्ली:  उच्चतम न्यायालय ने 1984 के सिख विरोधी दंगों से संबंधित 199 मामले बंद करने के विशेष जांच दल के फैसले की जांच के लिये शीर्ष अदालत के दो पूर्व न्यायाधीशों की एक निगरानी समिति गठित की है. यह समिति इन मामलों के परीक्षण के बाद यह पता लगायेगी कि क्या इन मामलों को बंद करना न्यायोचित था. शीर्ष अदालत ने कहा कि निगरानी समिति में शामिल उसके पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे एम पांचाल और न्यायमूर्ति के एस पी राधाकृष्णन पांच सितंबर से अपना काम शुरू करेंगे और तीन महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट पेश करेंगे. यह निगरानी समिति 199 मामले बंद करने के विशेष जांच दल के फैसलों की जांच करेगी और यह पता लगायेगी कि क्या यह न्यायोचित था.


न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा (अब प्रधान न्यायाधीश), न्यायमूर्ति अमिताव राय और न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने 16 अगस्त के अपने आदेश में कहा, ‘‘हम इस न्यायालय के दो पूर्व न्यायाधीशों न्यायमूर्ति जे एम पांचाल और न्यायमूर्ति के एस पी राधाकृष्णन की सदस्यता वाली निगरानी समिति गठित कर रहे हैं जो 199 मामलों की जांच करेगी जिन्हें बंद कर दिया गया है और अपनी राय देगी कि क्या इन मामलों को बंद करना न्यायोचित था.’’


पीठ ने अपने आदेश में इस तथ्य को भी शामिल किया कि अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने बहुत ही निष्पक्षता से कहा है कि यह समिति दूसरे दंगों से संबंधित 42 मामले बंद करने के विशेष जांच दल के फैसले के न्यायोचित होने के बारे में भी गौर कर सकती है. न्यायालय ने कहा कि निगरानी समिति को तीन महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट पेश करनी होगी. इस समिति का केन्द्र सरकार सभी आवश्यक मदद मुहैया करायेगी और समिति को कानून में प्रदत्त सारे वित्तीय लाभ मिलेंगे.


न्यायालय ने इस मामले में अब छह दिसंबर को आगे सुनवाई करने का निश्चय किया है और निर्देश दिया कि सीलबंद रखा इन सभी 199 मामलों से संबंधित सारा रिकॉर्ड इस निगरानी समिति को उपलब्ध कराया जाये. शीर्ष अदालत ने 24 मार्च को केन्द्र से कहा था कि गृह मंत्रालय द्वारा गठित विशेष जांच दल ने जिन 199 सिख विरोधी दंगों के मामले बंद करने का निर्णय लिया है उनकी फाइलें पेश की जायें. प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी की 30 अक्तूबर को हत्या के बाद भड़के सिख विरोधी दंगों में अकेले दिल्ली में ही 2733 व्यक्तियों की जान चली गयी थी.





Name  

Email ID
Comments
 




ट्रेडिंग न्यूज़